Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 14, 2022 · 1 min read

मकड़ी है कमाल

मकड़ी का देखो कमाल,
सर्कस दिखाती है बेमिसाल,
छत से लटक-लटक कर,
अदृश्य धागे के बल से,
झूलती है हवा में खुद को संभाल।
मकड़ी है कमाल।….।१।

बुनती है जाल घर के कोने में,
करती है कीट-पतंगों का शिकार,
पतले लंबे पैरों से है चलती,
दिखती है जैसे कोई यान,
देख मकड़ी को होते हैं सभी हैरान ।
मकड़ी है कमाल ।…।२।

दीवार पर सर-पट चढ़ जाती,
चकरी सी प्रतीत होती है तब,
डर कर मकड़ी दौड़ कर भागी,
बुने हुए जाल में आकर छुप जाती ,
मकड़ी को होती नहीं तनिक भी परेशानी ।
मकड़ी है कमाल ।..।३।

✍🏼✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

3 Likes · 2 Comments · 122 Views
You may also like:
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
माई री [भाग२]
Anamika Singh
प्यार
Swami Ganganiya
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
“ राजा और प्रजा ”
DESH RAJ
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
लोग जमसे गये है।
"अशांत" शेखर
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
गीत -
Mahendra Narayan
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बस इतनी सी ख्वाईश
"अशांत" शेखर
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
Loading...