Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2023 · 2 min read

मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,

मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
अक्षमालाकमण्डलूभ ।
देवी प्रसीदतु मयि ,ब्रह्मचरिण्यनुत्तमा ।।

(अर्थात जिनके एक हाथ में अक्षमाला है और दूसरे हाथ में कमंडल ऐसी उत्तम ब्रह्मचारिणी मां दुर्गा मुझ पर कृपा करें।)

नवरात्रि के दूसरे दिन मां दुर्गा के रूप में ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ है: तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ :तप का आचरण करने वाली।
ब्रह्मचारिणी ने भगवान शिव को पति के रूप में पानी के लिए कठोर तपस्या की थी और इसी वजह से उनका नाम प्रचारिणी पड़ गया। मां ब्रह्मचारिणी को तपश्र्चारिणी , अर्पणा और उमा के नाम से भी जाना जाता है। मां ब्रह्मचारिणी को सरल, सौम्य और शांत माना जाता है। ब्रहाचारिणी के मंत्र का जाप करने से मनुष्य में तप ,वैराग्य, सदाचार ,संयम की वृद्धि होती है । विद्यार्थियों के लिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा बहुत ही फलदायी मानी जाती है।मां ब्रह्मचारिणी प्रेम, निष्ठा, बुद्धि और ज्ञान का प्रतीक है। मां ब्रह्मचारिणी को पीला और सफेद रंग पसंद है । आप अपने घर के मंदिर को गेंदे के फूल से सजा सकते हैं। पीले, सफेद रंग के वस्त्र पहन कर पूजा करने से मां ब्रह्माणी शीघ्र प्रसन्न होती है। हिंदू धर्म में पीले रंग को शिक्षा और ज्ञान का रंग माना गया है । मां ब्रहाचारिणी का पसंदीदा भोग चीनी और मिश्री है। इसलिए मां को भोग में चीनी ,मिश्री और पंचामृत का भोग जरूर लगाए। मां ब्रह्मचारिणी को दूध और दूध से बने व्यंजन अति प्रिय है । देवी ब्रहाचारिणी की पूजा करते समय सबसे पहले हाथों में एक फूल लेकर उनका ध्यान करें और प्रार्थना करें इसके बाद देवी को पंचामृत स्नान कराये अलग-अलग तरह के फूल, अक्षत, कुमकुम ,सिंदूर अर्पित करें । देवी को सफेद एवं सुगंधित फूल चढ़ाएं इसके अलावा कमल का फूल भी देवी को चढ़ाए और मन से प्रार्थना करें।

हरमिंदर कौर
अमरोहा (यूपी)

2 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
अनजाने में भी कोई गलती हो जाये
ruby kumari
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
हम जियें  या मरें  तुम्हें क्या फर्क है
हम जियें या मरें तुम्हें क्या फर्क है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
मेरा तुझसे मिलना, मिलकर इतना यूं करीब आ जाना।
AVINASH (Avi...) MEHRA
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
💐Prodigy Love-35💐
💐Prodigy Love-35💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...