Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 28, 2022 · 1 min read

मंजिल

मंजिल हमें एक दिवा में
न मिल सकती हैं कभी
सतत आगे बढ़ने से ही
मिलती हमारी मंजिल है ।

हयातों में अक्सर जिन्हें
मिलती न कोई अवलंब
वे अपने सहर्ष- संघर्ष से
पाते अपने मंजिल को ।

मंज़िल पाने में हमसबों को
हजारों फ़ज़ीहते आएगी
मुफ़लिसी से लड़कर ही
मिलती हमारी मंज़िल है ।

मंज़िल को हासिल करने में
कई काँटे रास्ते में आएंगे ही
यही काँटे ही हमें हमारे
पैरों के रफ्तार को बढ़ाएगे ।

जिंदगी में ऐसा ए- अमुक
एक मानुज भी नहीं होगा
जो अपने जीवन में कभी
औंधा, प्रवृत्त न हुआ होगा ।

निष्ताफलता से हमें कभी
अकुलाना न चाहिए हमें
विफलता के पश्चात ही
मिलती हमारी मंज़िल हैं ।

अमरेश कुमार
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय बिहार

5 Likes · 165 Views
You may also like:
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
उड़ जाएगा एक दिन पंछी, धुआं धुआं हो जाएगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नफ़रतें करके क्या हुआ हासिल
Dr fauzia Naseem shad
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुआ आई
राजेश 'ललित'
हर घर तिरंगा प्यारा हो - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
गुरु के अनेक रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अमृत-उत्सव छाया (गीत)*
Ravi Prakash
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
✍️खून-ए-इंक़िलाब नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
I feel h
Swami Ganganiya
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
ना कर नजरअंदाज
Seema 'Tu haina'
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बात मुख़्तसर बदल जायेगी✍️
'अशांत' शेखर
अब नही छल सकते हो
Anamika Singh
हर घर तिरंगा अभियान कितना सार्थक ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज़ादी का अमृत महोत्सव
बिमल तिवारी आत्मबोध
कान्हा तुमको सौ-सौ बार बधाई (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
कुण्डलिया
Dr. Sunita Singh
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
Loading...