Oct 15, 2016 · 1 min read

मंजरी को चाहता हूँ ( गीत ) पोस्ट -२३

मंजरी को चाहता हूँ ( गीत )
तुम कली की मौत पर खुशियॉ मना लो भले ही पर,
मैं खिले फूलों महकतीं मंजरी को चाहता हूँ ।।

लहलहाते पादपों का कौन यह निष्ठुर बधिक है।
किया किसने इन सरों में नीर कम,दलदल अधिक है।
देखकर नीरज सुमन तुम तोड़ना यदि चाहते हो,
दूर से ही देखना मैं वनचरी को चाहता हूँ ।।

ठहर अब जाओ हवाओं!नीड़ बसते मत उजाड़ो
इस धराके घाव अब तुम| काटकर वन मत उघारो !
इन बबूलों के वनोंके शूल जिसके भी लिए हों,
पादपों पर मैं सरसती रसभरी को चाहता हूँ।।

हो रहा काला वदन है ताजका जो चिमनियों से
रक्त रुक रुक बह रहा है, क्यों ह्रदयकी धमनियों से ।
चिमनियों से फूटते इस धूम्र के स्वामी बनो तुम
मैं भरे भादों विचरती जलतरी को चाहता हुूँ ।।
मैं खिले फूलों महकतीं मंजरी को चाहता हूँ ।।

—- जितेंद्रकमलआनंद

133 Views
You may also like:
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
बेटी का संदेश
Anamika Singh
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
ये चिड़िया
Anamika Singh
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
मेरे पापा!
Anamika Singh
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
Loading...