Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 19, 2017 · 1 min read

भ्रूण हत्या

माँ! मुझे मत मारो
अपनी कोख के नूर को
इस तरह स्वयं से जुदा न करो।
चंद लम्हे ही तो हे हैं
जहाँ में आँखें खोले मुझे
बेटी हूँ इसलिये से दंश
झेलना पड़ रहा मुझे ।
मैं कोई गुनहगार नहीं
तुम्हारे ऊपर बोझ भी नहीं ।
अपने दामन में समेटा तो होता मुझे
अपने वात्सल्य व ममता से
सींचा तो होता मुझे ।
शायद तेरी उम्मीदों पर मैं खरा उतरती
और तुम्हारी बेटे की चाह को
बेटा बनकर पूरा करती
बेटा बनकर पूरा करती ।।

1 Like · 1 Comment · 300 Views
You may also like:
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
पिता
Santoshi devi
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...