Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

भ्रष्ट नेता चतुर नायिका

भ्रष्ट नेता चतुर नायिका

रूपक,उपमा अलंकार, घनाक्षरी छंद

नेताजी ने कहा खुशहाल कर दूंगा तुझे,
पूरे परिवार की गरीबी भी मिटाऊंगा।
छोटे भाई को लगा दूं सरकारी नौकरी मे,
बड़े भाई को विशेष ठेका दिलवाऊंगा।
माता-पिता मजे से बुढ़ापा काटे घर बैठे,
प्लेन में बिठा के तुझे भारत घुमाऊंगा ।
बस एक बार मुझे रूप का पिला दे सूप,
सुख के झूले में सदा सुंदरी झुलाऊंगा ।

करूं मैं समर्पण तुम्हारे आगे कैसे बोलो,
तुम बात-बात में व्यापारी जैसे लगते ।
चाल से तो चतुर शिकारी जैसे लगते हो,
वासना की भूख के भिखारी जैसे लगते ।
शब्दजाल में तुम्हारे फंसने वाली नहीं मैं,
बाप की उमर के पुजारी जैसे लगते ।
तन से तो ब्रह्मचारी अटलबिहारी लगो,
मन से तो एन डी तिवारी जैसे लगते ।

गुरु सक्सेना नरसिंहपुर मध्य प्रदेश

255 Views
You may also like:
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
पल
sangeeta beniwal
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
पिता
विजय कुमार 'विजय'
आदर्श पिता
Sahil
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...