Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 7, 2016 · 1 min read

भ्रम का तिलिस्म

कैसी है मोहब्बत का जादू
टौटका सी लगती है
आ जाए जब गिरफ्त में
तिलिस्म सा लगती है
तिलिस्म कैसा अनुपम
राह भटका देता है

चढ़ सिर पर चैन छीन लेता है
इश्क की फरियाद करते आये है
बर्बाद अपने को करते आये
लगा न मन कहीं ओर
प्रेम का टौटका 
सुध-बुध छीन ले  जाता है

तुम को फुसला न लें नादां
बचके रहना इस तिलिस्म से
अपने से पराए हो जाओगे
सारे जहाँ क भूल जाओगे
अधरों पर नाम का होगा उसका
दिल पर नाम होगा किसी का

भटक न जाना तुम नादां
बहकी बहकी गलियों से बचना 
सोच के तुम कदम रखना
ना पड़ना बालाओं के जाल में
यौवन से दूर रहना
सुराओं से बच रहना

नादां फूँक फूँक कदम रखना
आ जाओ तुम्हारी बारी
सोच कर काम करना
दिल से दिल मिलाकर रखना
जीवन साज को सभाँल चलना
हर क्षण समरस रखना

जीवन आनन्द है तिलिस्म में
अपने को खो देने में
वजूद को भूलने में
किसी का होने मे
अपना बना लेने में
पान कर लो तिलिस्म 
      सुरा का

डॉ मधु त्रिवेदी

71 Likes · 217 Views
You may also like:
बुध्द गीत
Buddha Prakash
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
संत की महिमा
Buddha Prakash
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
माँ
आकाश महेशपुरी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
पापा
सेजल गोस्वामी
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...