Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 28, 2016 · 3 min read

भोले भक्त

भोले- भक्त
✍✍✍✍✍✍
बचपन में माँ जब देवी – देवताओं की कहानियाँ सुनाया करती थी तो कमरे में दीवार पर जो भोले की तस्वीर टँगी थी उसमें उस भोले- भक्त वीरू की अनायास श्रद्धा उत्पन्न हो गयी । पैरों से लाचार भगवान ही उसका सहारा था , जब बड़ा हुआ तो उसके मन में भोले के प्रति एक दृढ़ता घर कर गयी । जब लोगों को काँवर चढाने के लिएजाते देखता तो माँ से अक्सर प्रश्न रहता हैमाँ ” ये लोग कहाँ जा रहे है ? माँ क्या मैं भी जाऊं क्या ? बालमन को समझाना बड़ा मुश्किल होता है । तब माँ केवल एक ही बात कहती ,”बेटा बड़ा होकर ।बड़ा होने पर माँ से अनुमति ले अपनी काँवर उठा कैलाश मन्दिर की ओर भोले के दर्शन के लिए चल पड़ा ।

“जय बम-बम भोले , जय बम -बम भोले”का शान्त भाव से नाद किये सड़क पर दण्डवत होता मौन भाव से चुपचाप चला जा रहा था । सड़क और राह की बाधाएँ उसको डिगा नहिं पा रही थी , एक असीम भक्ति थी उसके भाव में । सावन के महीने में कैलाश का अपना महत्व है भोले बाबा का पवित्रता स्थल है यह भोले भक्त महीने भर निराहार रहता है ।आस्था भी बडी अजीब चीज है भूत सी सवार हो जाती है , कहीं से कहीं ले जाती है ।
‘ पैरों में बजते घुघरूओं की आवाजें ,काँवरियों का शोरगुल उसकी आस्था में अतिशय वृद्धि करता था । सड़क पर मोटर गाड़ियों और वाहनों की पौ -पौ उसकी एकाग्रता को डिगा न पायें थे । राह के ककड़ पत्थर उसके सम्बल थे ।

सावन मास में राजेश्वर, बल्केश्वर, कैलाश , पृथ्वी नाथ इन चारों की परिक्रमा उसका विशेष ध्येय था । 17 साल के इस युवक में शिव दर्शन की ललक देखते ही बनती थी ।
दृढ़ प्रतिज्ञ यह युवक ने सावन के प्रथम सोमवार उठकर माता के चरणस्पर्श कर उसने जो कुछ कहा , माता से । उसका आशय समझ माँ ने व्यवधान न बनते हुए “विजयी भव ” का आशीर्वाद दिया और वह चल दिया । साथ में कुछ नहीं था, चलते फिरते राहगीर और फुटपाथ पर बसे रैन बसेरे उसके आश्रय – स्थली थे ।
आकाश में सूर्य अपनी रश्मियों के साथ तेजी से आलोकित हो रहा था जिसकी किरणों से जीव , जगत और धरा प्रकाशित हो रहे थे । इन्हीं धवल चाँदनी किरणों में से एक किरण भोले – भक्त पर पड़ रही थी । दिव्यदृष्टि से आलोकित उसका भाल अनोखी शोभा दे रहा था , रश्मिरथी की किरणों के पड़ने से जो आर्द्रता उसके अंगों पर पड़ रही थी वो ऐसी लग रही थी जैसे नवपातों पर ओंस की बूँदें मोती जैसी चमक रही हो ।
मगर भक्त इन सब बातों से बेखबर लगातार रोड -साइड दण्डवत् होता हुआ भोले बाबा का नाम लिए चला जा रहा था ।
हर शाम ढलते ही उसे अपने आगोश में ले टेम्परेरी बिस्तर दे देती थी , चाँद की चाँदनश उसका वितान थी आकाश में चमकते तारें पहरेदार थे । सब उसके मार्ग में साथ – साथ थे । अन्त में कैलाश मन्दिर पहुँच उसने साष्टांग भोले को नमन किय किया ।

संक्षिप्त परिचय ?
—————————

. पूरा नाम : डॉ मधु त्रिवेदी
प्राचार्या,पोस्ट ग्रेडुएट कालेज
आगरा
स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका
अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका
होप्स आन लाइन पत्रिका
हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल )
लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों
में रचनायें
विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका
इसके अतिरिक्त विभिन्न शोध पत्रिकाओं में लेख एवं शोध पत्र
आगरा मंच से जुड़ी
email -madhuparashar2551974@gmail.com
रूचि –लेखन
कवितायें ,गजल , हाइकू लेख
50 से अधिक प्रकाशित

74 Likes · 1 Comment · 259 Views
You may also like:
मन
शेख़ जाफ़र खान
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे सनम
DESH RAJ
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
Born again with love...
Abhineet Mittal
Loading...