Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2016 · 1 min read

भोर

बहुत पुराना रात दिन ,का आपस में बैर
अपनी अपनी राह पर, करते दोनों सैर

दिन ने की जो सूर्य की, किरणों की बरसात
चाँद सितारे साथ ले,चल दी फ़ौरन रात

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Like · 3 Comments · 264 Views
You may also like:
मैं पीड़ाओं की भाषा हूं
Shiva Awasthi
**कर्मसमर्पणम्**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूतों के अस्तित्व पर सवाल ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरे होने की ख़बर
Dr fauzia Naseem shad
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
"हिंदी से हिंद का रक्षण करें"
पंकज कुमार कर्ण
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
घर का ठूठ2
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
कहता है ये दिल मेरा,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
भैया दूज (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
असली गुनहगार
Shekhar Chandra Mitra
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
खत्म तुमको भी मैं कर देता अब तक
gurudeenverma198
तुम
Rashmi Sanjay
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
अशांत मन
Mahender Singh Hans
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️"बा" ची व्यथा✍️।
'अशांत' शेखर
तेरा होना भी
Seema 'Tu hai na'
Loading...