May 2, 2020 · 1 min read

भोर भई अब जागो लाल

भोर भई अब जागो लाल!
मुँह उठाय रँभाइ रही गैया,
बाट देखि रहे ग्वाल।
उदय भये रवि किरण पसारीं,
अम्बर से उतराईं।
चूँ चूँ करती चुगने दाना,
चिड़ियाँ आँगन में आईं।
काहे लाला अब तक सोवै,
है रहे सब बेहाल।
उठो लाल मुँह हाथ पखारो,
मैं लोटा भर जल लाई।
नित्य कर्म कर बंशीवट जाओ,
प्यारे कृष्ण कन्हाई।
कर कर जतन जगाइ रही मैया,
जागत नहिं नँद लाल।
गावते प्रभाती चले बटोही
पहुँच गये कई कोस।
प्रखर भई सूर्य की किरणें,
विगलाइ गई है ओस।
कबहू शीश पै हाथ फिरावै,
कबहू चूमती भाल।
देखो कान्हा द्वारे जाय कें,
राधा तुम्हें बुलावै।
अगर रूंठ कर लौट गई वो,
फेरि बगदि नहिं आवै।
भड़भड़ाइ उठि बैठे मोहन,
समझी मैया की चाल।

जयन्ती प्रसाद शर्मा

3 Likes · 2 Comments · 151 Views
You may also like:
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
हे गुरू।
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...