Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 25, 2022 · 1 min read

भोरे

कौन जो पूरब श्याम छितिज में,
आग लगाने आया है ।
कौन उषा के नव आँचल पर,
प्रीति सजाने आया है ।।
सजने को बेताब धरा क्यों?
यह किसके अगवानी में ।
यह क्या ? कलरव गूंज उठा क्यों,
क्या कोई शरमाया है ।।

यह क्या धर कण नव विलास ने,
अनुपम सुषमा धार लिया ।
अरुण आस अगनित तृन तन तन
शबनम सज श्रृंगार किया ।।
कलरव करुण कुंज कन कनिका
अरुणिम प्रभा निहार रही ।
आने वाला कौन उषा में
अम्बर कौन सजाया है ।।

32 Views
You may also like:
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
#दोहे #अवधेश_के_दोहे
Awadhesh Saxena
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
Accept the mistake
Buddha Prakash
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
पैसा
Arjun Chauhan
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
पहचान
Anamika Singh
ऐ वतन!
Anamika Singh
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
तुम्हारा शिखर
Saraswati Bajpai
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
आओ हम याद करे
Anamika Singh
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कहानियां
Alok Saxena
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मालूम था।
Taj Mohammad
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
"फौजियों की अधूरी कहानी"
Lohit Tamta
Loading...