Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-4💐

भेद भाव जड़ चेतन का नैसर्गिक गुण है।तो कोई इसे कैसे मिटा सकता है।मनुष्य तो बिल्कुल नहीं।

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बूंद बूंद में जीवन है
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच तो यह है
सच तो यह है
gurudeenverma198
जिन पर यकीं था।
जिन पर यकीं था।
Taj Mohammad
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
✍️मुमकिन था..!✍️
✍️मुमकिन था..!✍️
'अशांत' शेखर
.
.
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
बेवफाई की फितरत..
बेवफाई की फितरत..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अर्थहीन
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-392💐
💐प्रेम कौतुक-392💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मांँ ...….....एक सच है
मांँ ...….....एक सच है
Neeraj Agarwal
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
🙏स्कंदमाता🙏
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
बोलना शुरू करो
बोलना शुरू करो
Shekhar Chandra Mitra
नया युग
नया युग
Anil chobisa
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
कुछ इनायतें ख़ुदा की, कुछ उनकी दुआएं हैं,
Nidhi Kumar
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
करना है, मतदान हमको
करना है, मतदान हमको
Dushyant Kumar
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
Loading...