Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

भूमिसुता छंद “जीव-हिंसा”

जीवों की हिंसा प्राणी क्यों, हो करते।
तेरे कष्टों से ही आहें, ये भरते।।
भारी अत्याचारों को ये, झेल रहे।
इन्सां को मूकों की पीड़ा, कौन कहे।।

कष्टों के मारे बेचारे, जीव सभी।
पूरी जो ना हो राखे ना, चाह कभी।।
जो भी दे दो वो ही खा के, मस्त रहे।
इन्सां तेरे दुःखों को क्यों, मूक सहे।।

जाँयें तो जाँयें कैसे ये, भाग कहीं।
प्राणों के घाती ही पायें, जाँय वहीं।।
इंसानों ने भी राखा है, बाँध इन्हें।
थोड़ी भी आजादी है दी, नाँहि जिन्हें।।

लाचारी में पीड़ा झेलें, नित्य महा।
दुःखों में ऐसे हैं ये जो, जा न कहा।।
हैं संसारी रिश्ते नाते, स्वार्थ सने।
लागें हैं दूजों को सारे, ही डसने।।
================

भूमिसुता छंद विधान –

“मामामासा” तोड़ो आठा, चार सजा।
सारे भाई चाखो छंदा, ‘भूमिसुता’।।

“मामामासा” = मगण मगण मगण सगण
222 222 22//2 112 = 12वर्ण का वर्णिक छंद, यति 8,4
चार चरण, दो दो समतुकांत।
*********************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’ ©
तिनसुकिया

15 Views
You may also like:
Baby cries.
Taj Mohammad
पिता
Vijaykumar Gundal
“फेसबूक के सेलेब्रिटी”
DrLakshman Jha Parimal
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
मैं तुमको याद आऊंगा।
Taj Mohammad
एहसास पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
✍️मी फिनिक्स...!✍️
'अशांत' शेखर
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
करके शठ शठता चले
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
क्योंकि, हिंदुस्तान हैं हम !
Palak Shreya
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
'अशांत' शेखर
✍️सुकून✍️
'अशांत' शेखर
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
कलम नही लिख पाया
Anamika Singh
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#अपने तो अपने होते हैं
Seema Tuhaina
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
Loading...