Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

भूख

भूख
“””””””””””””””””””””””'””””””””””””

भूख है
पेट की तड़पन‌ का
शक्ति नहीं
चल पाता भी नहीं
मुरझा – मुरझा कर
गिर पड़ता हूँ
भटक – भटक
राहों में
एक आशाएं थीं
वो भी नहीं
जिसे चाहता मैं
मिलों कोसों दूर
कोई तो न हैं

रोटी की टुकड़ी
कि है तलाश
इन बाजारों को देख
जी मचल जाता है
इनकी चमक देख
न जाने क्या !
सब तो पैसों की
टंकार
नहीं तो
अपना भी कंगाल

देह तो
दिख रहे जैसे
अस्थिपंजर-सी
हो रहे बिकने के
नाम चंद अंग में
फिर कहो तो
ये तो भव का
है विकराल

पेट तो चिपट गई
क्यों ?
भूख है
अन्न तो नहीं
बांध लूं कफ़न से
कहो तो
मिट जाएंगी
भूख, दर्द, सूजन
उदर के
कमर पेट की
दिख रही है
एक पतली सी रेखाएं
देखो तो
क्या कमजोर है ?
नहीं रे
वो भूखा है।
दे दो कुछ
भोजन को
नहीं
हम क्यों‌ दे
तू ही दे दो न
हराशंख….
बोलने आता है।

#VarunSinghGautam

27 Views
You may also like:
देश की शान है बेटियां
Ram Krishan Rastogi
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
हवाई जहाज
Buddha Prakash
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
रोता आसमां
Alok Saxena
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
विश्वास
Harshvardhan "आवारा"
इन्सान
Seema Tuhaina
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मुंशी प्रेमचंद, एक प्रेरणा स्त्रोत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
पैसों के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेहनत का फल
Buddha Prakash
✍️मैं काश हो गया..✍️
'अशांत' शेखर
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
तुम्हारे हाथों में।
Taj Mohammad
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
Loading...