Aug 30, 2016 · 1 min read

भुजंगी छन्द

करें वायदा तो निभाएं वहीं
भले साथ कोई चले या नहीं
खुशी ही मिलेगी ज़रूरी कहां
दुखों को मिटादे उसी का यहां।।।
कामनी गुप्ता ***
जम्मू !

112 Views
You may also like:
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वसंत का संदेश
Anamika Singh
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
Ray's Gupta
मिसाइल मैन
Anamika Singh
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
यादें
Sidhant Sharma
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
पिता
Aruna Dogra Sharma
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
वार्तालाप….
Piyush Goel
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं
Saraswati Bajpai
Loading...