Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#30 Trending Author
Aug 31, 2016 · 1 min read

भुजंगी छंद (मुक्तक )

यही अर्चना है यही भावना
करो पूर्ण माते सभी कामना
बुरे वक़्त में छोड़ना माँ नहीं
बढ़ा हाथ आगे तुम्हीं थामना

पुरानी चले ज़िन्दगी चाल है
बिछाती यहाँ मोह का जाल है
हँसाती रुलाती लुभाती हुई
हमें ले चले वो जहाँ काल है

जुदाई तुम्हारी सताती हमें
नहीं नींद आके सुलाती हमें
वफ़ा भी सजा आज तो हो गयी
मिले दर्द भी तो हँसाती हमें

डॉ अर्चना गुप्ता

936 Views
You may also like:
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पहचान
अनामिका सिंह
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
अभिलाषा
अनामिका सिंह
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख्वाब
Swami Ganganiya
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
दुनिया की फ़ितरत
अनामिका सिंह
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
सिपाही
Buddha Prakash
सुन्दर घर
Buddha Prakash
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...