Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2022 · 2 min read

“भीमसार”

कविता का नाम- “भीमसार”

तन में भीम, मन में भीम,
मिट्टी के कण कण में भीम।
भीम हमारी शान है।
भीम हमारा मान है।
देश का सम्मान है।
भीम हमारा नारा है।
भीम आंखों का तारा है।
भीम दुनिया को प्यारा है।
भीम ने हमको मान दिया।
पिछड़ों को सम्मान दिया।
महिलाओं पिछड़ों के खातिर,
पद भी अपना त्याग दिया।
सहा दुख, परेशानियां उठाई।
मेहनत से की पढ़ाई।
विदेशों से डिग्रियां पाई।
जातिवाद से की लड़ाई।
सतत संघर्ष नहीं छोड़ा।
पुत्रों से नाता तोड़ा।
सुख न दे पाए अपनों को भी,
सब जन से नाता जोड़ा।
कोई जुबान न खोलो कुछ भी,
दिया सबको थोड़ा थोड़ा।
मजदूरों की जान हैं भीम।
दलितों के भगवान हैं, भीम।
हर जन के समान हैं, भीम।
नॉलेज ऑफ सिंबल हैं, भीम।
आरबीआई के दाता भीम।
सब जन के विधाता भीम।
दुनिया के विख्याता भीम।
महिलाओं को हक दिलाया।
गले से मटका हटवाया।
कमर से झाडू हटवाया।
सबको समान हक दिलाया।
पढ़ने को स्कूल खुलवाया।
बांधों पर प्रोजेक्ट बनाया।
तकनीकी शिक्षा को बढ़ाया।
आरक्षण हम को दिलवाया।
ज्ञान को आधार बनाया।
मनुस्मृति चौराहे जलाया।
जड़ से छुआछूत मिटाया।
सभी के लिए काम किया।
ना बदले में दाम लिया।
अमिट अनोखा काम किया।
दे गए हमको ऐसी सीख।
पढ़ो लिखो ना मांगों भीख।
ले लो साहब से ऐसी सीख।
शान से जियो न झुकाओ शीश।
मजदूरी का समय घटाया।
प्रसव अवकाश भी दिलवाया।
मालिक मजदूर बात कर सकें।
ऐसा एक विधान बनाया।
सुख दिया, खुद कष्ट उठाया।
शिक्षित बनो, संगठित रहो,
मिलकर सब संघर्ष करो।
आपस में तुम प्यार करो।
मेहनत दिन और रात करो।
झूठा ना प्रचार करो।
कभी ना आंखें चार करो।
मधुर मीठा व्यवहार करो।
बाबा साहब को जानने हेतु,
पोयम “भीमसार” पढ़ो।
बेजानों को जान दिया।
गूंगो को जुबान दिया।
दुनिया में पहचान दिया।
बौद्ध धर्म का सार दिया।
प्राणों का बलिदान दिया।
आज देश चलता है, जिसके बल पर,
ऐसा सफल सविधान दिया।
नमन है, इनको बारंबार।
हजार नहीं करोड़ों बार।
झूठ नहीं सच्चाई है, यार।
पढ़कर लिखा है, इतना सार।
दुष्यन्त कुमार की सुन लो यार।
सब जन से है, यही पुकार।
भीमराव का पढ़ लो सार।
सब जन से है, यही अनुरोध।
सच्चाई यही है, ना करो विरोध।
हे !महामानव तेरे कार्यों को,
शब्दों में बयां न कर पाऊं।
पूरे जीवन लिखूं भी तो,
उपकार तेरे न ले लिख पाऊं।
जानों तुम इतिहास अपना।
महापुरुषों का सार पढ़ो।
शिक्षा को आधार बनाओ।
अपना भविष्य खुद गढ़ों।
………………………
कवि- दुष्यन्त कुमार

3 Likes · 5 Comments · 76 Views
You may also like:
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया अपना नाम जानिए?
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया...
Jansamavad
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
"तस्वीर"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
अपना मुकदमा
अपना मुकदमा
Yash Tanha Shayar Hu
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
अभिनव अदम्य
धर्म अधर्म
धर्म अधर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जस का तस / (नवगीत)
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
कवि दीपक बवेजा
दुल्हन सी सजी संपूर्ण आयोध्या नगरी सारी।
दुल्हन सी सजी संपूर्ण आयोध्या नगरी सारी।
Taj Mohammad
■ लीक से हट कर.....
■ लीक से हट कर.....
*Author प्रणय प्रभात*
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल में आने की बात।
दिल में आने की बात।
Anil Mishra Prahari
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
ऐसे इश्क निभाया हमने
ऐसे इश्क निभाया हमने
Anamika Singh
उसकी गमी में यूं निहां सबका मलाल था,
उसकी गमी में यूं निहां सबका मलाल था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
# मंजिल के राही
# मंजिल के राही
Rahul yadav
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Shekhar Chandra Mitra
"हे वसन्त, है अभिनन्दन.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लल्लेश्वरी कश्मीरी संत कवयित्री - एक परिचय
लल्लेश्वरी कश्मीरी संत कवयित्री - एक परिचय
Shyam Sundar Subramanian
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
श्रद्धा
श्रद्धा
मनोज कर्ण
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
✍️जब रिक्त हथेलियाँ...
'अशांत' शेखर
💐अज्ञात के प्रति-20💐
💐अज्ञात के प्रति-20💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
विश्वास मिला जब जीवन से
विश्वास मिला जब जीवन से
Taran Singh Verma
प्रेम -जगत/PREM JAGAT
प्रेम -जगत/PREM JAGAT
Shivraj Anand
*राजा जन-सामान्य (कुंडलिया)*
*राजा जन-सामान्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
Satish Srijan
Loading...