Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

भीनी प्रेम फुहार

ले-लेकर घन दौड़ती, यहाँ-वहाँ दिन रात |
वही हवा बरसात की, लाती शुभ सौगात ||

आये वारिद झूम के, भिन्न-भिन्न आकार |
ढांक रहे हैं व्योम को , अपने पंख पसार ||

ओ मतवाले मेघ सुन, मतकर सोच विचार |
शुष्क ह्रदय पर डाल दे , भीनी प्रेम फुहार ||

रूठे घन बरसा सुधा , जी जाएं सब खेत |
वसुधा का आँचल खिले, सिमटे बालू रेत ||

चाहे मत बरसों यहाँ, मगर न जाना भूल |
मुरझाएंगे मेघ सब , नीर बिना यह फूल ||

विरहन को तरसा रहा, तपा रहा क्यों देह |
ओ अलबेले मेघ जा,…और कहीं दे मेह ||

फिर बादल नजदीक है, फिर जागा है चाव |
बना रहा है लो पुनः, मन कागज़ की नाव ||

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 10 Comments · 221 Views
You may also like:
पिता
लक्ष्मी सिंह
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
पिता
Aruna Dogra Sharma
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
अनमोल राजू
Anamika Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
देश के नौजवानों
Anamika Singh
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे पापा
Anamika Singh
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...