Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 18, 2016 · 1 min read

भीड़ में तुम दिख जाते हो…

बगिया में अपनी जब कुछ फूल सजाता हूं,
भीड़ में तुम दिख जाते हो।

अपनी कलम से जब कुछ शब्द बनाता हूं,
भीड़ में तुम दिख जाते हो।

रंग देता हूं खुशनुमां महफिल दीवानों की नगरी में,

उस महफिल में जब प्यार की गज़ल सुनाता हूं,
भीड़ में तुम दिख जाते हो।

— प्रियांशु कुशवाहा,
सतना

(इस मुक्तक में तीनों पंक्तियों की भीड़ अलग-अलग है–
–पहली पंक्ति में फूलों की भीड़ है
–दूसरी पंक्ति में शब्दों की भीड़ है।
–आखिरी पंक्ति में श्रोताओं की भीड़ है। )

205 Views
You may also like:
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
अरदास
Buddha Prakash
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
इंतजार
Anamika Singh
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आतुरता
अंजनीत निज्जर
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...