Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2016 · 1 min read

भाव विहग भर रहे उडान

*गीतिका*
भाव विहग भर रहे उडान।
उर नभ में हो रहा वितान।
सौम्य सुभगता का उपसार।
गुंजित मधुकर सम मृदु गान।
नवल सृजन शुचि नये विकल्प।
लुप्त आज होता अवसान।
निगल गयी द्युति तिमिर प्रभाव।
मधुर अधर पर चिर मुस्कान।
सौरभ सुरभि हवा चहुँ ओर।
प्रेम पुंज पाता सम्मान।
कलुषित गरल भाव कर भष्म।
हृदय सुधा रस करता पान।
भ्रम संशय सम विद्युत कीट।
करते आज स्वयं बलिदान।
दीप्तिमान उर का उत्कर्ष।
कर ‘इषु -प्रिय’ खुद का संज्ञान।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

369 Views
You may also like:
✍️ज्वालामुखी✍️
'अशांत' शेखर
किसी का भाई ,किसी का जान
Nishant prakhar
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
सात अंगना के हमरों बखरियां सखी
Er.Navaneet R Shandily
बेटियाँ
Shailendra Aseem
ये संघर्ष
Ray's Gupta
रुकना हमारा कर्म नहीं
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नज़रिया
Shyam Sundar Subramanian
सन्त कवि रैदास पर दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
हर कोने में पीक( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
हर गुनाह शाद
Dr fauzia Naseem shad
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
घर
पंकज कुमार कर्ण
फिर भी
Seema 'Tu hai na'
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
आग-ए-इश्क का दरिया।
Taj Mohammad
आदि शक्ति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💥प्रेम की राह पर-69💥
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करवा चौथ
Vindhya Prakash Mishra
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...