Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

भाव भंगिमा

मूक हूँ मैं, मौन हूँ मैं,
मुझको तू जुबान दे,,,
देखकर बस भाव भंगिमा,
मुझमें तू जाँ डाल दे,,,
दे नये आयाम इस चित्र को तू,
मूक सी इस छवि को दास्तान दे “”
दिखाकर मुझे दरपन लफ्जों का,
मुझको ही मेरी पहचान दे “”,,,
चाहूँ बस कुछ तवज्जो तेरी,,
ना तू मुझे पूरा जमीं आसमान दे,,,,,
बस थम जा कुछ देर
यही,अरमानों को मेरे इक नया जहान दे
उकेर कर इबारत पत्थर पर,
शब्दों से कुछ निशान दे,,,
बेजान सी पङी लाश को,
जिंदगी जीने का सामान दे,,,,
बन ना जाये स्याही जीवन की
इसको नूतन नाम दे
अनवरत जारी है कविता
रोककर तू विराम दे

नूतन

Language: Hindi
842 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
श्रृंगार
श्रृंगार
Alok Saxena
दर्द हमने ले लिया है।
दर्द हमने ले लिया है।
Taj Mohammad
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*Author प्रणय प्रभात*
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
जैसी लफ़्ज़ों में बे'क़रारी है
जैसी लफ़्ज़ों में बे'क़रारी है
Dr fauzia Naseem shad
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय संजू
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ Rãthí
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
पृथ्वीराज
पृथ्वीराज
Sandeep Pande
फिर से सतयुग भू पर लाओ
फिर से सतयुग भू पर लाओ
AJAY AMITABH SUMAN
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
Shayri
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
💐प्रेम कौतुक-269💐
💐प्रेम कौतुक-269💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आजादी का दौर
आजादी का दौर
Seema 'Tu hai na'
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Hamko Chor Batane Wale - Poet Anurag Ankur's Ghazal - कवि अनुराग अंकुर की गजल
Anurag Ankur
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
Prabhudayal Raniwal
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
चेहरे की तलाश
चेहरे की तलाश
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
*
*"याचना"*
Shashi kala vyas
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
पानी के लिए लड़ेगी दुनिया, नहीं मिलेगा चुल्लू भर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक -
मुक्तक -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2463.पूर्णिका
2463.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...