Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

भारत छोड़ो

????भारत छोड़ो????

आज उठी है हूक कि कह दूँ भारत छोड़ो।
जितने भी हैं ऐब हिन्द से अब मुँह मोड़ो।
मतलब ने अपनेपन का दिया घोंट गला है।
अच्छों को अच्छाई का न मिला सिला है।
मतलबपरस्ती,जाओ कहीं और तुम दोड़ो।
जितने भी हैं ऐब हिन्द से अब मुँह मोड़ो।
विश्वासघात मेहमान बना है दिलों में देखो।
और भरोसा छिपा कहीं है बिलों में देखो।
कोई तो विश्वास डोर को फिर से जोड़ो।
जितने भी हैं ऐब हिन्द से अब मुँह मोड़ो।
थी साफ सफाई,लाज,विनय विरासत अपनी।
लील गयी सबको नवेली आदत अपनी।
बेशर्मी का घट भरने से पहले फोड़ो।
जितने भी हैं ऐब हिन्द से अब मुँह मोड़ो।
✍हेमा तिवारी भट्ट✍

320 Views
You may also like:
पिता
Shankar J aanjna
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
# पिता ...
Chinta netam " मन "
आदर्श पिता
Sahil
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
माँ
आकाश महेशपुरी
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
Loading...