Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 27, 2022 · 3 min read

भारत लोकतंत्र एक पर्याय

अखण्ड, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी।
42 वे संविधान संशोधन 1976 में ।
जोङे गए प्रस्तावना में ये तीन नए शब्द ।
प्रशस्त करे जो हर भारतीय नागरिक को ।
ब्रम्हांड, आसमाँ में रहते ।
एकजुट होकर जैसे ।
चांद,तारे,सूर्य, ग्रह, नक्षत्र ।
सबकी है जरूरत सर्वत्र ।
रहते वैसे ही इस भारत भूमि पर ।
जैन,बौद्ध, पारसी,सीख,ईसाई,हिंदू, मुस्लिम ये मजहब ।
सब ही यही सीखाते है ।
है ईश्वर एक महज ।
हिंसा से करके निवृत्ति ।
मनसा,वाचा,कर्मणा।
अपराधो से कर लो विरक्ति ।
हो जहां में मानव का कल्याण ।
दे ईश्वर सबको सद्बुद्धि ।
अहिंसा परमोः धर्मः ।
आत्मा की है सिर्फ यही सूक्ति ।
किसी से घृणा, जाति वर्ग से पीङा ।
भेदभाव हो समाज से खत्म ।
उठाए हम सब मिलकर बीङा ।
गंगा,यमुना, कावेरी,गोदावरी ।
बहती जिस धरा पर ये शुचि नदियाँ ।
गर्व से गौरवान्वित है जहाँ की बीती सदियाँ ।
खङा हिमालय,नीलगिरी,सह्याद्रि।
जङी -बूटियो की खान ।
नीरोगी काया जीवन का प्रथम सोपान ।
है विस्तृत भारत में ।
ज्ञान समाहित जगत् कल्याण ।
बुद्ध, महावीर,नानक, मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम, श्री कृष्ण गणेश ।
नाना देवी -देवताओ की करती जो धरती आह्वान ।
उत्तर -दक्षिण, पूर्व -पश्चिम ।
हर ओर खुशी की लहर स्वप्निल ।
सुबह-ए-बनारस मां गंगा की आरती ।
छटा अद्भुत, स्वर्ग आभास, विस्मरणीय इस पल की ।
ताजमहल,गेटवे ऑफ इंडिया ।
कुतुब, चारमीनार, लाल किला ।
चमोली, चम्बा, ऊंटी, गुलबर्गा, गुलमर्ग ।
कन्याकुमारी, नैनीताल, जुहू,मरीना, शिमला की सर्द ।
अजमेर,बुंदेलखंड, अमृतसर, राँची ।
सासाराम मकबरा शेरशाह सूरी अशोक बौद्ध स्तूप सांची ।
पौ फटते प्रकृति में कलरव करते पंछी ।
हरियाली है जहाँ बिखरी ।
नीला आकाश,समंदर छवि निराली ।
बंगाल की खाड़ी, अरब सागर, हिंद महासागर लहराएं ।
यही पर बांसुरी, शहनाई ।
कृष्ण, बिस्मिल्लाह बजाए।
होली, दीवाली, ईद,क्रिसमस ।
प्रकाश पर्व, पोंगल, गणेश उत्सव।
दशहरा,नवरात्र, रोजा,व्रत ।
मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर, गुरुद्वारा ।
विविधता है कितनी फिर भी सब है एक ।
अनेकता में एकता का ये सूचक ।
रहे भरा प्यार, भाईचारा इनमे ।
हो सब एकता करे कार्य नेक ।
देवदार,चीङ, मोगरा आबनूस ।
पीपल, नीम ,आम,अशोक वृक्ष ।
ऋतुएं है भिन्न-भिन्न ।
हर एक नवा है दिन ।
गीता की वाणी,गूंजे आकाशवाणी ।
शादी की रस्म ।
अलग मेरी ये नज्म ।
तालाब मे शोभित खिले पद्म ।
मां भारती के प्रति देशभक्ति ।
अपने लहू कार कतरा-कतरा बहाएंगे ।
आए तन अपने देश की खातिर ये सौभाग्य कहां पाएँगे ।
बिस्मिल, भगत,आजाद, सुभाष,गांधी,तिलक,मालवीय,
सावरकर ।
गोखले,उद्यम सिंह, अम्बेडकर ।
मरकर भी रहेगा इनका नाम अमर ।
सुंदरवन डेल्टा, असम काजीरंगा गैण्डा ।
गिर शेर,मानस हाथी ।
है ये संजोए पर्यावरण की सौंदर्यता ।
कोणार्क सूर्य मंदिर, मदुरै मीनाक्षी।
महाराष्ट्र सिद्धि विनायक ।
काश्मीर मां वैष्णो भवानी ।
पूज्य सभी स्थल यहाँ ।
काशी,मथुरा,द्वारका ।
अयोध्या ईश्वर चरण पखानी ।
गांधर, नागर,द्रविड़, बेसर ।
अद्भूत मंदिर, मूर्ति कला ।
मधुबनी, किशनगढ चित्रकला ।
एलोरा, एलीफेण्टा ,भीम बेटका अद्भुत नमूना छटा ।
बुलर, डल,सांभर,चिल्का ।
झील ये भारत की शोभा ।
थार मरूस्थल सूखा रेत नागफनी कंटीला ।
टैगोर,सी वी रमण, हर गोविंद खुराना ।
सुब्रमण्यम चन्द्रशेखर, मदर टेरेसा।
अमर्त्य सेन,कैलास सत्यार्थी ।
विजेता नोबेल पुरस्कृत भारतीय ।
ए.आर. रहमान, श्याम बेनेगल ।
लता मंगेशकर, रफी, किशोर ।
मुकेश,आशा, महेंद्र कपूर ।
आदि मधुर आवाज से करे मंत्रमुग्ध रोम-रोम ।
इनसे परिचित जहां का हर छोर ।
संगीत से ऑस्कर तक ।
सफर ए. आर. रहमान का उज्ज्वल ।
सचिन तेंदुलकर, नीरज चोपड़ा, अभिनव बिंद्रा, पी.वी. सिन्धु, धोनी,कोहली आदि खिलाङियो की चर्चा हर ओर ।
सूर्य निकलने से डूबने तक अद्भुत छटा मां भारती का ।
विश्वविख्यात सब हो आकर्षित आते गुण गाते इस वसुधा का ।
जय भारती -जय शैलेंद्र नमन इस धरा को साष्टांग प्रणाम कर जोङ।

44 Views
You may also like:
सिपाही
Buddha Prakash
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
'अशांत' शेखर
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
नियति
Anamika Singh
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
ये बारिश की बूंदें ऐसे मुझसे टकराईं हैं।
Manisha Manjari
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर रोज़ ही हम।
Taj Mohammad
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu haina'
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...