Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

भारत की माता

तरलता भी रहे मन में, जिगर फौलाद हो जाये ।
बने गाँधी मगर कुछ तो, भगत आजाद हो जाये।
यही बस चाह रखती है, सभी भारत की मातायें-
विवेकानन्द के जैसी, उसे औलाद हो जाये ।

विनय बाली सिंह।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 1 Comment · 348 Views
You may also like:
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
स्लोगन
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
गांठे खोलने वाला शिक्षक-सुकरात
Shekhar Chandra Mitra
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
आज बच्चों के हथेली पर किलकते फोन हैं।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
मेरी माँ
shabina. Naaz
जवानी
Dr.sima
"अकेला काफी है तू"
कवि दीपक बवेजा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
कुछ लम्हें ऐसे गुज़रे
Dr fauzia Naseem shad
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
टोक्यो ओलंपिक 2021
Rakesh Bahanwal
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शिक्षा पर अशिक्षा हावी होना चाहती है - डी के...
डी. के. निवातिया
तो क्या हुआ
Faza Saaz
गज़लें
AJAY PRASAD
I got forever addicted.
Manisha Manjari
अनूठा सम्मान : संदर्भ श्री सतीश भाटिया द्वारा स्थापित 67...
Ravi Prakash
दुल्हन
Kavita Chouhan
Loading...