Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2020 · 1 min read

कोरोना माई के प्रताप पर 3 कुण्डलिया

(1.) कोरोना के ख़ौफ़ से

कोरोना के ख़ौफ़ से, जीव-जन्तु भयभीत
चीन की खुराफ़ात से, उत्पन्न मृत्यु गीत

उत्पन्न मृत्यु गीत, कौन उसको समझाये
उसके नए प्रयोग, विश्व पे विपदा लाये

महावीर कविराय, मृत्यु का क्या अब रोना
कुदरत से खिलवाड़, वायरस है कोरोना

(2.) भारतीय संस्कार

कोरोना सीखा दिया, विश्व को नमस्कार
अनचाहे ही घुल गए, भारतीय संस्कार

भारतीय संस्कार, बन रहे शाकाहारी
एक दिन बिना मांस, रहे ना जो नर-नारी

महावीर कविराय, महामारी फिर हो ना
करो शवों का दाह, जले उसमें कोरोना

(3.) रोग बड़ा विकराल

कोरोना के तेज़ से, बचा न कोई शख़्स
हर किसी के दिमाग़ में, कोरोना का अक्स

कोरोना का अक्स, जगत में सर्वत्र छाया
यह चीनी षड्यंत्र, काट कोई ना पाया

महावीर कविराय, रोज़ का है अब रोना
रोग बड़ा विकराल, नाम जिसका कोरोना

***

1 Like · 299 Views
You may also like:
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
कर्मण्य के प्रेरक विचार
Shyam Pandey
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
तेरी जिन्दगानी तो
gurudeenverma198
छठ पर्व
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन में पदयात्रा
Ravi Prakash
दीप जले है दीप जले
Buddha Prakash
रास्ते जब कभी नहीं थकते
Dr fauzia Naseem shad
अनशन
Shyam Sundar Subramanian
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
वो इश्क है किस काम का
Ram Krishan Rastogi
आफताबे रौशनी मेरे घर आती नहीं।
Taj Mohammad
माँ की याद
Meenakshi Nagar
काश तू मौन रहता
Pratibha Kumari
जनता की दुर्गति
Shekhar Chandra Mitra
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ
Swami Ganganiya
मोदी-शाह जोड़ी पे दो कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
करना है, मतदान हमको
Dushyant Kumar
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
नारी सृष्टि निर्माता के रूप में
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
✍️कांटने लगते है घर✍️
'अशांत' शेखर
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ग़ज़ल / ये दीवार गिराने दो....!
*Author प्रणय प्रभात*
हट जा हट जा भाल से रेखा
सूर्यकांत द्विवेदी
जीवन के दिन थोड़े
Satish Srijan
Loading...