Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2022 · 1 min read

भारतीय किसान की स्थिति

जो दिन भर पसीना में लिपटा रहा,
धूप, छांव और बारिश में करता रहा,
चाहते जिसकी आसमां को छूती रही,
अन्न उपजा कर जो देता रहा।

आज उसकी हालत दयनीय है,
ऋणभोझ के अंदर वो दबता रहा,
सरकार राजनीति खेलती रही,
कृषक कर चुकाता रहा।

हालत उसकी बलहीन थी,
जिम्मेदार किसी को न ठहरा सका,
वक्त का दाव उसके विपरीत था,
इस शतरंज में सब कुछ हार गया।

अपनी तकदीर को जिम्मेदार ठहरा न सका,
यह गल्प है उस मजबूर की,
जो भारतीय किसान कहलाता रहा।

Language: Hindi
Tag: कविता
118 Views
You may also like:
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
शिक्षा
शिक्षा
Buddha Prakash
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
भगतसिंह कैसा ये तेरा पंजाब हो गया
Surinder blackpen
चेतावनी
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
Writing Challenge- अति (Excess)
Writing Challenge- अति (Excess)
Sahityapedia
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बोलती तस्वीर
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
😊पुलिस को मशवरा😊
😊पुलिस को मशवरा😊
*Author प्रणय प्रभात*
बाक़ी हो ज़िंदगी की
बाक़ी हो ज़िंदगी की
Dr fauzia Naseem shad
तेरे इश्क़ में।
तेरे इश्क़ में।
Taj Mohammad
कैसे कह दूं
कैसे कह दूं
Satish Srijan
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
अनवरत का सच
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दुनिया भय मुक्त बनाना है
दुनिया भय मुक्त बनाना है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बोध कथा। अनुशासन
बोध कथा। अनुशासन
सूर्यकांत द्विवेदी
तिल,गुड़ और पतंग
तिल,गुड़ और पतंग
VINOD KUMAR CHAUHAN
Trust
Trust
Manisha Manjari
नव दीपोत्सव कामना
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
दानवीर सुर्यपुत्र कर्ण
दानवीर सुर्यपुत्र कर्ण
Ravi Yadav
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
जयति जैन 'नूतन'
💐प्रेम कौतुक-458💐
💐प्रेम कौतुक-458💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आया फागुन (कुंडलिया)
आया फागुन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पापा
पापा
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
शायरी
शायरी
goutam shaw
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
हमारा प्रेम
हमारा प्रेम
अंजनीत निज्जर
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
वो निरंतर चलता रहता है,
वो निरंतर चलता रहता है,
laxmivarma.lv
Loading...