Oct 6, 2016 · 1 min read

भाभी बोलीं बाय-बाय…: हास्य घनाक्षरी

रोज रोज आते जाते, भाभीजी को छेड़ें भैया,
बाय-बाय चार बच्चों, वाली अम्मा गोरी हो .
भैया रोज लेते मौज, भाभी होतीं परेशान.
अच्छी नहीं खींचतान, ना ही जोराजोरी हो .
समझाया सहेली ने भाभीजी को इकरोज,
खुलेआम दे दो डोज, दुखे पोरी-पोरी हो.
ससुरे से चले भाय, भाभी बोलीं बाय-बाय,
चार में से दो बच्चों के, बापू शुभ होरी हो..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

326 Views
You may also like:
ऊपज
Mahender Singh Hans
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा!
Anamika Singh
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पिता
Rajiv Vishal
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
अभिलाषा
Anamika Singh
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
Loading...