Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 20, 2022 · 1 min read

भाग्य की तख्ती

भाग्य की तख्ती
भाग्य को क्यों कोसना ,
भाग्य तो कोरी तख्ती होती है ,
कर्मो की स्याही से रची जाती है ,
अच्छे कर्मो की स्याही से लिखी ,
तो सज गयी भाग्य की तख्ती ,
बुरे कर्मो की स्याही से लिखी ,
तो सजा बन गयी भाग्य की तख्ती ,
अपनो कर्मो की तख्ती ले ,
मैं इस दुनिया में आई ,
हर पल पुराना कर्जा ,
सूत समेत चुकाया ,
सजी तख्ती देख ,
मैं मुस्कराई ,
अच्छे कर्मों का फल ,
अपने सामने ही पाया ।
सजा की तख्ती देख ,
जब जब मैं रोई ,
बुरे कर्मो होंगे सोच ,
अश्रु रोक , सत्य को अपनाया ।
भाग्य विधाता सिर्फ हिसाब रखता है
अपना किया इंसान जरूर भोगता है ,
भाग्य को क्यों कोसना ,
भाग्य तो कोरी तख्ती होती है ,
अच्छे या बुरे कर्मो की स्याही से ,
रची जाती है ।

दीपाली कालरा
नई दिल्ली

2 Likes · 82 Views
You may also like:
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
सावन
Arjun Chauhan
वो आवाज
Mahendra Rai
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
पिता
Neha Sharma
*** वीरता
Prabhavari Jha
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
ऐ वक्त ठहर जा जरा सा
Sandeep Albela
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...