Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author

भाग्य का फेर

अक्सर हम जो चाहते हैं ,
वैसा तो नहीं होता है ।
मगर जो नहीं चाहते हैं ,
वोह होकर ही रहता है ।

यह भाग्य का फेर है या,
हमारा प्रारब्ध कोई ।
लाख प्रयत्न करने पर भी ,
मुक्ति से युक्ति नहीं मिलती कोई ।

ज्ञात है की कोई षड्यंत्र रच रहा है ,
परंतु समझ के करेगा भी क्या कोई ?
अनजाने में ही शिकार हो कर रहता है,
अपने बचाव में उपाय सूझता नहीं कोई ।

नादान तो नादान है वोह तो फंसेगा ही ,
परंतु जो कुशाग्र बुद्धि के हैं वो?
लाख चतुराई करने पर भी फंस जाते है,
अधिक चतुर होने का दम भरते है वो।

धृतराष्ट्र जो न समझ पाया शकुनी को ,
तो समझ में आया वो नेत्रहीन यूथा।
परंतु उसकी छठी इंद्री क्या हुई ?
विवेक के बिना वोह बुद्धि हीन था ।

परंतु हस्तिनापुर के अन्य गुरुजन ,
भीष्म पितामह जैसे अनुभवी ,ज्ञानी थे।
वोह समझ चुके थे शकुनी के कपट जाल को ,
फिर क्यों न काट पाए ,क्या वोह अयोग्य थे?

आखिरकार महाभारत होना था ,
होकर ही रहा,नहीं रोक सके वंश के नाश को।
यही है भाग्य विधाता का लेख ,
जो लिख दिया उसने कोई नही मिटा सकता उसको।

3 Likes · 3 Comments · 131 Views
You may also like:
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalvir Singh
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
पिता
Vandana Namdev
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
बात मुख़्तसर बदल जायेगी
"अशांत" शेखर
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ये सियासत है।
Taj Mohammad
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
Loading...