Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2023 · 1 min read

भागअ मत, दुनिया बदलअ

हर चुनौती स्वीकार करअ
दुनियादारी से मत भागअ
तहरा जवन मिलल बा वो
जिम्मेदारी से मत भागअ…
(१)
तू पहिले काबिल बनअ
फेर कवनो चाहत करअ
कामयाबी ज़रूर मिली
बेरोज़गारी से मत भाग…
(२)
आख़िर कवन बीमारी बा
जेकर कवनो इलाज़ नाहीं
असली डाक्टर के ढूंढ़अ
बीमारी से मत भागअ…
(३)
आतम हत्या तअ कवनो
समस्या के हल ना हअ
ये आदमखोर व्यवस्था के
मक्कारी से मत भागअ…
(४)
आज पीड़ित मानवता के
तहार बहुत ज़रूरत बा
एकरा अदालत में आपन
जवाबदारी से मत भागअ…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#हकमारी #दिहाड़ी #मजदूर #फनकार
#इंकलाब #सवाली #democracy
#विपक्ष #गरीब #कवि #गीतकार #सच
#भोजपुरी #विद्रोही #जनवादी #क्रांति

Language: Bhojpuri
Tag: गीत
101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
वो राह देखती होगी
वो राह देखती होगी
Kavita Chouhan
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आंधियां आती हैं सबके हिस्से में, ये तथ्य तू कैसे भुलाता है?
आंधियां आती हैं सबके हिस्से में, ये तथ्य तू कैसे भुलाता है?
Manisha Manjari
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
पानी बरसे मेघ से
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
DrLakshman Jha Parimal
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-295💐
💐प्रेम कौतुक-295💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
संकोच - कहानी
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता
पिता
Anis Shah
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
इश्क़ का कुछ अलग ही फितूर था हम पर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
बंदर मामा गए ससुराल
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
*विमूढ़  (कुंडलिया)*
*विमूढ़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहां पर
कहां पर
Dr fauzia Naseem shad
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
'अशांत' शेखर
Loading...