Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

“भण्डारा”

भण्डारा (लघु कथा)
*****************************************************************************

सामने वाले मन्दिर के भगवान साक्षात हैं सेठ जी ! जो भी मन्नत मांगो तुरंत पूरा करते हैं । देखिये ना ! आज से ठीक एक साल पहले मैंने इसी मंदिर में मन्नत मांगी थी कि एक साल में मेरा सारा कर्ज़ उतर जाये तो मैं यहाँ पर भण्डारा करवाऊँगा । चमत्कार हो गया सेठ जी ! एक साल पूरा होने से ठीक एक दिन पहले मेरा सारा कर्ज़ उतर गया । मुझे मन्दिर में भण्डारा करवाना है सेठ जी ! ये लीजिये भण्डारे भंडारे के सामान की लिस्ट ! यह सामान दे दीजिये !

– कितने पैसे हो गए सेठ जी ? -सामान पैक करवाने के बाद उसने पूछा ।
– पूरे दस हज़ार !
– अच्छी बात सेठ जी ! एक विनती करनी है आपसे !
– बोलो-बोलो ! सेठ जी आवाज़ को ऊंची करते हुए बोले ।
– ये सामान मुझे उधार तो मिल जाएगा ना सेठ जी ! भगवान की कृपा रही तो जल्दी चुका दूंगा !
सेठ जी कभी उसको तो कभी उस मंदिर को देखने लगे ।

*****************************************************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************************************************

2 Comments · 361 Views
You may also like:
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
बहुमत
मनोज कर्ण
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
समय ।
Kanchan sarda Malu
# पिता ...
Chinta netam " मन "
कर्म का मर्म
Pooja Singh
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...