Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2022 · 1 min read

भगवान जगन्नाथ की आरती (०१

)
गुरु नानक देव जी के भगवान जगन्नाथ मंदिर में दर्शन करते समय जो भाव आए उनका हिंदी रूपांतरण।

हे जगन्नाथ भगवान, महिमा कही न जाए तुम्हारी
सृष्टि उतार रही आरती, शोभा वरनि न जाए तिहारी
आसमान के थाल में प्रभु, जगमग जड़े सितारे
सूरज चंदा के दीपों से, नयन दमक रहे रत्नारे
हे जगन्नाथ भगवान, महिमा कही न जाए तुम्हारी
मलयागिरी की मंद पवन से, महक रही सृष्टि सारी
नाना पुष्प सुशोभित, अर्पित करती धरती सारी
धूप और अगर चंदन से, महक रही दुनिया सारी
सप्त सिंधु सब पावन सरिता, नीरांजन करें तिहारी
वन पर्वत और प्रकृति में, छवि कही न जाए तुम्हारी
एक ओंकार एक निरंकार से, उत्पन्न हुई सृष्टि सारी
सब जीवो में नूर तुम्हारा, झूम रहे नर नारी
हे जगन्नाथ भगवान, महिमा कही न जाए तुम्हारी
बिन काया हैं नेत्र सहस्त्रों, असंख्य हैं कर पाद प्रभु
आनन बिन षटरस लेते ,विन कानन सुनते बात प्रभु
निरंकार से सब जग जन्मा, जीवन ज्योति तुम्हारी
निराकार साकार प्रकट्या, जीवों में ज्योति तुम्हारी
हे जगन्नाथ भगवान, महिमा कही न जाए तुम्हारी
सप्तदीप नवखंड, दसों दिशा उजियारी
सप्त स्वरों में करें आरती, आनंदित सृष्टि सारी
बरस रहा है प्रभु प्रेमामृत, पान करें नर नारी
हे जगन्नाथ भगवान ,महिमा कही न जाए तुम्हारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी स्वरचित

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 6 Comments · 303 Views
You may also like:
मौत
Alok Saxena
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-2)
Sahityapedia
मृत्यु
AMRESH KUMAR VERMA
किताब।
Amber Srivastava
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
माँ के लिए बेटियां
लक्ष्मी सिंह
दीपावली
Dr Meenu Poonia
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
कड़वा है पर सत्य से भरा है।
Manisha Manjari
✍️धर्म के पानी का वो घड़ा✍️
'अशांत' शेखर
ये मुनासिब नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
कब आओगे ,श्याम !( श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
भगवान बताएं कैसे :भाग-1
AJAY AMITABH SUMAN
बेरोजगार आशिक
Shekhar Chandra Mitra
नवनिर्माण करें राष्ट्र का, करें श्रेष्ठ अपना अर्पण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बच्चों के लिए
shabina. Naaz
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
Ravi Prakash
फरिश्ता से
Dr.sima
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
मृत्यु
Anamika Singh
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
एक नायाब मौका
Aditya Prakash
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
मैं किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हे मंगलमूर्ति गणेश पधारो
VINOD KUMAR CHAUHAN
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
Loading...