Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

भक्ति भाव

कुछ भी कर सकते हो तुम
सर्वश्रेष्ठ सर्व समर्थ हो तुम
शब्दों के मोती बन
जाते
भक्ति भाव जग देते तुम

अदृश्य रहो कण कण में दिखते
जिसको लग्न अपनी दे देते
होता मतवाला वो पी तेरा
प्याला
असीम साहस उसमे भरते तुम

खो जाता वो तेरे प्यार
मेंनहीं रह पाये फिर वो संसार में
तेरा नूर जब उसमें
जागे
वेसुध हो वो प्रीत बहार में
शब्द ज्ञान से ऊपर हो तुम भेद भाव से ऊपर हो तुम
तुमसा हो वो तुमको
पहचाने
भाषा परिभाषा से ऊपर हो तुम

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 332 Views
You may also like:
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
" DECENCY IN WRITINGS AND EXPRESSING "
DrLakshman Jha Parimal
जब पंखुड़ी गिरने लगे,
Pradyumna
आज़ादी के 75 वर्ष ’नारे’
Author Dr. Neeru Mohan
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
'अशांत' शेखर
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
वो आवाज
Mahendra Rai
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Sahityapedia
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
श्री गणेश स्तुति
Shivkumar Bilagrami
एक कमरे की जिन्दगी!!!
Dr. Nisha Mathur
सच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भगवान बताएं कैसे :भाग-1
AJAY AMITABH SUMAN
*रियासत रामपुर और राजा रामसिंह : कुछ प्रश्न*
Ravi Prakash
हूक
Shekhar Chandra Mitra
मुकम्मल ना होते है।
Taj Mohammad
ऋतु
Alok Saxena
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
देव उठनी एकादशी/
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक बात है
Varun Singh Gautam
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...