Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 30, 2016 · 1 min read

बढ़ रही हैं जो दिलों में दूरियाँ

बढ़ रही हैं जो दिलों में दूरियाँ
शोर अब करने लगी खामोशियाँ

देख उनको ये झपकते भी नहीं
बढ़ रही हैं नैनों की गुस्ताखियाँ

हार कर मत हार जाना तुम कभी
जीत भी लिखती हैं ये नाकामियाँ

बीत चाहें पल सुनहरे सब गए
साथ अब भी याद की परछाइयाँ

तब मुकम्मल होती है अपनी ग़ज़ल
वाह की मिलती हैं जब शाबाशियाँ

जानकर भी ये ,मिलेगी हार ही
खेलते सब ज़िन्दगी की बाजियाँ

‘अर्चना’ बेशक जमाना ये नया
पर नहीं रिश्तों में वो गहराइयाँ
डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 5 Comments · 284 Views
You may also like:
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Saraswati Bajpai
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
रफ्तार
Anamika Singh
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
💔💔...broken
Palak Shreya
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...