Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है

बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है
यहाँ छत न आँगन मगर पास घर है

सवेरे सभी हड़बड़ी में निकलते
बिछी चाँदनी में घरों को पहुँचते
लगें एक मेहमान से घर में अपने
अलग ज़िन्दगी का यहाँ पर सफर है
बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है

नज़र हर जगह बस कबूतर ही आते
गुटर गूं गुटर गूं यही गुनगुनाते
नहीं चहचहाहट यहाँ पंछियों की
घुला जो धुएँ का हवा में जहर है
बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है

लड़ें माँ पिता घर में तन्हाइयों से
हुआ दूर रिश्ता बहन भाइयों से
अकेले अकेले जिए जा रहे ये
न अपनी न इनको किसी की खबर है
बड़ी है इमारत बड़ा ये नगर है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 9 Comments · 356 Views
You may also like:
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
सुंदर बाग़
DESH RAJ
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वो जहर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
आओ तुम
sangeeta beniwal
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
مستان میاں
Shivkumar Bilagrami
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
ख़तरे की घंटी
Shekhar Chandra Mitra
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
सीखने का हुनर
Dr fauzia Naseem shad
"पराधीन आजादी"
Dr Meenu Poonia
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
बोलती तस्वीर
राकेश कुमार राठौर
चल-चल रे मन
Anamika Singh
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
*अशासकीय सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के इतिहास का एक दुर्लभ...
Ravi Prakash
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...