Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 29, 2017 · 2 min read

” ब्लू व्हेल “

“ब्लू व्हेल ”
घर में इंटरनेट कनेक्शन, माता- पिता के पास जिओ सीम में अनलिमिटेड डाटा प्लान ।
चेतना को हर समय इंटरनेट उपलब्ध ।
चेतना को लगा अनलिमिटेड डाटा है तो क्यों न इंटरनेट गेम खेला जाय । अनलिमिटेड डाटा है ना ….. !
चेतना के माता-पिता को जानकारी ही नहीं थी की , पढ़ाई , मनोरंजन, प्रोजेक्ट रिपोर्ट देखने, लिखने व होमवर्क न कर चेतना अच्छे लोगों के साथ-साथ इंटरनेट पर बुरे लोगों, अपराधियों, मानसिक रूप से विक्षिप्त, बच्चों को बहला-फुसलाने वाले, हैकर, वायरस फैलाने वाले धोखेबाज के चुगंल में पुण॔ रूप से घिर गई थी ।
चेतना एक रूस में लोकप्रिय सोशल मिडिया वेबसाइट से संचालित “ब्लू व्हेल” नामक गेम खेलने में दिन-रात , मर मिटने के समान गेम खेलने लगी । यह गेम अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्ति संचालित कर रहें थे । गेम के नियम व वादें के बहकावे में आकर आखिर चेतना जान भी गंवा देने को तैयार थी ।
चेतना के पिता तुरंत इस हरकत से जागृत हो गये । धीरे-धीरे गेम खेलने के रूचि को स्कूल के होमवर्क करने करने, उसकी सेहत का ध्यान, अपने साथ भोजन, बहार घुमाने, सभी विषयों पर खुलकर चर्चा करना । चेतना से दोस्ताना व्यवहार बनाया । मोबाइल, इंटरनेट से चेतना को दूर रखना शुरू किया । चेतना को अपने माता-पिता का दोस्ताना व्यवहार अच्छा लगने लगा । चेतना घर के काय॔ के साथ-साथ अपना नियमित होमवर्क समय पर करने लगी ।
बहुत अच्छा इंटरनेट लेकिन, सोशल नेटवर्किंग साइटों से दूरी बनाना ही बेहतर है, जरा-सी लापरवाही से गंदे वीडियो और साॅफ्टवेयर भी डाउनलोड हो सकते हैं और बहुत गम्भीर भी परिणाम रहते हैं ।
– @ काॅपीराईट
राजू गजभिये

303 Views
You may also like:
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
अनामिका के विचार
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
पापा
सेजल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
Nurse An Angel
Buddha Prakash
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...