Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 16, 2017 · 1 min read

बोल माँ

कैसे तुझे पुकारूँ मॉ ( कविता)
— आरती लोहानी
कैसे तुझे पुकारूँ हे मॉ !
बोल कोख में क्यों मारा ,मॉ !
कैसे आप बनी हत्यारिन ।
मातृत्व आपका हारा , मॉ !!१!!

थी क्यो बोझ धरा पर ,बोलो !
तू इतना बतला दे मुझको !
क्या तेरी सेवा ना करती ।
तू इतना समझा दे मुझको !!२!!

बस, इतना बतलादे मुझको ।
भाई जैसे मैं ना पढ़ती ।
क्यों इतनी नफ़रत थी मुझसे ।
मैं कुल की इज्जत ही बनती !!३!!
तुमको किंचित दया न आयी ।
सॉसें मेरी धड़क रहीं थीं ।
मेरे सपने चूर कर दिये ।
आने को मैं मचल रही थी ।।४!!
— आरती लोहानी ( पंजाब )

437 Views
You may also like:
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे पापा
Anamika Singh
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
Nurse An Angel
Buddha Prakash
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
बेरूखी
Anamika Singh
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...