Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2021 · 1 min read

बॉर्डर पर किसान

बॉर्डर पर पहुंचा किसान
यह देखकर चौक गया हर इंसान।
शक नहीं है उसे किसी भी बात पर
लेकर रहेगा वह अपना हक हर हाल पर।
सहारे की इस बार उसे जरूरत नहीं
पीछे हटने की इस बार उसकी सोच नहीं।
तैयारी उसकी पूरी है
जीतना उसके लिए जरूरी है।
दिल्ली अब घिर चुकी हैं
साँसें भी सबकी रूकी हुई हैं।
न जाने अब क्या होगा?
कौन जीतेगा?, कौन हारेगा?

– श्रीयांश गुप्ता

Language: Hindi
Tag: कविता
5 Likes · 3 Comments · 324 Views
You may also like:
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ा हैं तो थोड़े की ज़रुरत हैं
Surabhi bharati
■ परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
भेज दे कोई इक रहनुमा।
Taj Mohammad
बात
Shyam Sundar Subramanian
अश्क़
Satish Srijan
*खिला हुआ हर एक पुष्प ज्यों मुरझा जाना तय है...
Ravi Prakash
नहीं आये कभी ऐसे तूफान
gurudeenverma198
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाल कहानी- रोहित
SHAMA PARVEEN
बचपन की साईकिल
Buddha Prakash
पूनम की रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
The day I decided to hold your hand.
Manisha Manjari
ओशो को सुन लीजिए
Shekhar Chandra Mitra
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
ज़िन्दगी
लक्ष्मी सिंह
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! "...
VEDANTA PATEL
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मनवा नाचन लागे
मनोज कर्ण
माँ का प्यार
Anamika Singh
दोष दृष्टि क्या है ?
Shivkumar Bilagrami
✍️दोगले चेहरे ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...