Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-499💐

बे-तहाशा किसी को चाहना,मसला इबादत का है,
हर घड़ी इंतिज़ार की रौनक़,मसला इबादत का है,
जोड़ते तोड़ते रहो ख़्यालों को बस दिलबर से जोड़ो,
उन्हें आना पड़ेगा सुन लो,मसला इबादत का है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
25 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
फाइल की व्यथा
फाइल की व्यथा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत का भविष्य
भारत का भविष्य
Shekhar Chandra Mitra
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
अक्लमंद --एक व्यंग्य
अक्लमंद --एक व्यंग्य
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-497💐
💐प्रेम कौतुक-497💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
दर्दे दिल…….!
दर्दे दिल…….!
Awadhesh Kumar Singh
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
अपना बिहार
अपना बिहार
AMRESH KUMAR VERMA
पहले सा मौसम ना रहा
पहले सा मौसम ना रहा
Sushil chauhan
इक अजीब सी उलझन है सीने में
इक अजीब सी उलझन है सीने में
करन मीना ''केसरा''
"बच्चों की दुनिया"
Dr Meenu Poonia
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
हिंदी दोहा- महावीर
हिंदी दोहा- महावीर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
लाखों करोड़ रुपए और 400 दिन बर्बाद करने के बाद भी रहे वो ही।
लाखों करोड़ रुपए और 400 दिन बर्बाद करने के बाद भी रहे वो ही।
*Author प्रणय प्रभात*
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
*उठाऊ-चूल्हा नेता (हास्य कुंडलिया)*
*उठाऊ-चूल्हा नेता (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दुनिया सारी मेरी माँ है
दुनिया सारी मेरी माँ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
कवि दीपक बवेजा
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
श्याम सिंह बिष्ट
होंसला
होंसला
Shutisha Rajput
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Nav Lekhika
Loading...