Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2022 · 1 min read

बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे

छुपाना भी चाहो छुपा ना सकोगे
मुलाकात जग जाहिर हो चुकी है
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
ये बात भी जग जाहिर हो चुकी है
बे-इंतिहा मोहब्बत…………
तकते हैं यूँ लोगआते जाते हमको
देखते हैं हर पल मुस्कुराते हमको
छुपती नहीं खुशी दिल की हमारी
हर बात ये जग जाहिर हो चुकी है
बे-इंतिहा मोहब्बत………….
कोई पूछता ते हमें हंसी आती है
नजर खुदबखुद ही झुक जाती है
छुपाते हैं मगर इज़हार हो जाता है
हर बात ये जग जाहिर हो चुकी है
बे-इंतिहा मोहब्बत…………
तुम आज हमको यूँ छुपा लो कही
बाहों में बस हमें तुम उठा लो यूँही
“विनोद”छुपाना क्या रह गया अब
हर बात ये जग जाहिर हो चुकी है
बे-इंतिहा मोहब्बत…………

:– 10/06/22
( विनोद चौहान )

1 Like · 2 Comments · 102 Views
You may also like:
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
इश्क
Anamika Singh
सुन्दर घर
Buddha Prakash
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
Loading...