Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

” बेशकीमती थैला”

” बेशकीमती थैला”

पुकारते हैं मुझे थैला नाम से

हैं मेरे भिन्न भिन्न आकार

विभिन्न रंग रूपों संग उपलब्ध

उत्पति के हैं विभिन्न आधार,

सामान डालो चाहे बारिश में पहनो

चारों तरफ है मेरी पुकार

सैंकड़ों परिवारों का पेट पालता

विदेशों तक फैला मेरा व्यापार,

शादी, कार्यक्रम या हो रोजमर्रा का काम

चाहे हो कोई व्रत और त्यौहार

हर तरह का सामान रखो मुझमें

दिखें सभी मुझ बिन लाचार,

सबकी हसरतों का ध्यान रखता

बिन मेरे यात्रा भी लगती बेकार

हर वर्ग के लिये बना जरूरतमंद

तनख्वाह लेता हो चाहे हो बेगार।

Language: Hindi
3 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Dr Meenu Poonia

You may also like:
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
subhash Rahat Barelvi
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
Dr. ADITYA BHARTI
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरी यादों की खुशबू
तेरी यादों की खुशबू
Ram Krishan Rastogi
सीने में जलन
सीने में जलन
Surinder blackpen
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
हद
हद
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
■  आज का लॉजिक
■ आज का लॉजिक
*Author प्रणय प्रभात*
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
Ravi Prakash
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
💐प्रेम कौतुक-511💐
💐प्रेम कौतुक-511💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan Mundhra
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
Swati
पशु पक्षियों
पशु पक्षियों
Surya Barman
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
डॉ प्रवीण ठाकुर
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
समझा होता अगर हमको
समझा होता अगर हमको
gurudeenverma198
तुम  में  और  हम  में
तुम में और हम में
shabina. Naaz
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...