#29 Trending Author
Jan 17, 2022 · 1 min read

‘बेवजह’

मिलना तो था तुम से..
पर कैसे कहूँ…
कहीं तुम ये न पूछ बैठो…
किस लिए?
क्या कहेंगे… हम को भी
नहीं पता।।
काम तो कुछ नहीं.. पर यों ही
मिलना था..
क्या हर बार मिलने की कोई वजह ही हो ये जरूरी है क्या?
कभी-कभी बेवजह मिलना भी
सुकून दे जाता है..और
यही तो वो दौलत है..जिसे
ढूँढते हुए ताउम्र गुजर जाती है
पर क्या तुम मिलना चाहोगे??हमसे बेवजह…

1 Like · 1 Comment · 139 Views
You may also like:
अप्सरा
Nafa writer
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
फरियाद
Anamika Singh
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
Loading...