Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

बेला फूल पर गीत

बेला रानी रात को महके ,
भँवरें झूमे चुपके चुपके !
भीनी भीनी खुशबू घर में ,
खुशी मनाये बच्चे सबके !!

सतरँगी तितली फूलों पर ,
फुर्र फुर्र मँडराती है !
बागों में कोयल रानी भी ,
गीत खुशी के गाती है !!

रजनीगंधा से मिलने को
सर्पराज जब आते हैं !
मम्मी पापा देखो देखो ,
हम सब फिर छुप जाते है !!

फूल इकट्ठा कर बेला के ,
गजरा हार बनाते है !
रामू श्यामू शीता गीता ,
मिलजुल त्योहार मनाते है !!

Language: Hindi
Tag: कविता
1080 Views
You may also like:
तुम्हारा मिलना
Saraswati Bajpai
हो गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उस वक़्त
shabina. Naaz
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
ज़िंदगी का सबक़
Dr fauzia Naseem shad
मां का घर
Yogi B
मानवता
Dr.sima
मेरी निंदिया तेरे सपने ...
Pakhi Jain
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
चुनावी हथकंडे
Shekhar Chandra Mitra
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
Ravi Prakash
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
धूप में साया।
Taj Mohammad
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
बच्चों में नहीं पनप रहे संस्कार
Author Dr. Neeru Mohan
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
रानू रानाघाट की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
पिता का दर्द
Nitu Sah
मानकर जिसको अपनी खुशी
gurudeenverma198
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
Loading...