Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

बेरुखी इख्तियार करते हो

बेरुखी इख्तियार करते हो
बेवजह बिखर जाएंगे हम
तुम अगर रहो राज़ी तो
सुनो फिर
सवँर जाएंगे हम

1 Like · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
प्यार कर डालो
प्यार कर डालो
Dr. Sunita Singh
*जग से चले गए जो जाने, लोग कहॉं रहते हैं (गीत)*
*जग से चले गए जो जाने, लोग कहॉं रहते हैं (गीत)*
Ravi Prakash
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN SINGH VERMA
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
🚩उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितने रूप तुम्हारे देखे
कितने रूप तुम्हारे देखे
Shivkumar Bilagrami
कहाँ-कहाँ नहीं ढूंढ़ा तुमको
कहाँ-कहाँ नहीं ढूंढ़ा तुमको
Ranjana Verma
क्या चाहिए….
क्या चाहिए….
Rekha Drolia
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
2342.पूर्णिका
2342.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो हैं , छिपे हुए...
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
पहली दफा
पहली दफा
जय लगन कुमार हैप्पी
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
देखते देखते
देखते देखते
shabina. Naaz
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
'अशांत' शेखर
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
सूर्यकांत द्विवेदी
💐प्रेम कौतुक-226💐
💐प्रेम कौतुक-226💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
जुबाँ चुप हो
जुबाँ चुप हो
Satish Srijan
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Unlocking the Potential of the LK99 Superconductor: Investigating its Zero Resistance and Breakthrough Application Advantages
Shyam Sundar Subramanian
सपनों का महल
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बहुत कुछ कहना है
बहुत कुछ कहना है
Ankita
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
इंसान क्यों ऐसे इतना जहरीला हो गया है
gurudeenverma198
■ आत्मा झूठ नहीं बोलती ना! बस इसीलिए।।
■ आत्मा झूठ नहीं बोलती ना! बस इसीलिए।।
*Author प्रणय प्रभात*
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
Shekhar Chandra Mitra
मोह....
मोह....
Rakesh Bahanwal
Loading...