Sep 15, 2016 · 1 min read

बेमौसम

वे तस्वीरें खींचते हैं मिटा देते हैं,
मुझसे एक तस्वीर मिटायी न गयीं।
दस्तक देके, इंतजार नहीं करता कोई,
यहाँ उम्र कट गयी किसी इंतज़ार में ।
किस तरह जल्दी, शाख से पत्ते बिछड़ गये!
पतझड़ का मौसम बेमौसम आ गया ।

126 Views
You may also like:
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आ जाओ राम।
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नदियों का दर्द
Anamika Singh
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
धरती की फरियाद
Anamika Singh
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये माला के जंगल
Rita Singh
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माँ
आकाश महेशपुरी
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
केंचुआ
Buddha Prakash
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
Loading...