Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2022 · 1 min read

बेबस-मन

बहुत परेशां, बेबस मन था।
लेकिन तुम पर सब अरपन था।

ठौर नहीं है, कोई, दुखों का।
इससे तो बेहतर बचपन था।

प्रेम, त्याग, आदर्श, समर्पण।
बड़ा राम से पर लछमन था।।

चाह रहे बस जियें प्यार से।
मगर जमाना दुर-योधन था।

जो इक पल हम साथ जिये थे।
वो इक पल सारा जीवन था।।

दुनिया का डर नहीं “बेशरम”।
बीच में लेकिन आरक्षन था।।

विजय “बेशर्म”
गाडरवारा मप्र

Language: Hindi
Tag: ग़ज़ल
1 Like · 1 Comment · 79 Views
You may also like:
मोहब्बत का गम है।
Taj Mohammad
बोझ
सोनम राय
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
*कृष्ण-कथा (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
Subject- मां स्वरचित और मौलिक जन्मदायी मां
Dr Meenu Poonia
// बेटी //
Surya Barman
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहा
Dr. Sunita Singh
सन्त कवि रैदास पर दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेरणा
Shiv kumar Barman
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
अध्यापक दिवस
Satpallm1978 Chauhan
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
◆ संस्मरण / अक्षर ज्ञान
*Author प्रणय प्रभात*
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त लगता है
Deepak Baweja
लाइलाज़
Seema 'Tu hai na'
इस ज़िंदगी ने हमको
Dr fauzia Naseem shad
त'अम्मुल(पशोपेश)
Shyam Sundar Subramanian
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
कब तक इंतजार तेरा हम करते
gurudeenverma198
विद्यालय
श्री रमण 'श्रीपद्'
शेर
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
ये इत्र सी स्त्रियां !!
Dr. Nisha Mathur
सञ्जीवनी साधना
Er.Navaneet R Shandily
हासिल करने की ललक होनी चाहिए
Anamika Singh
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...