Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2022 · 1 min read

बे’बसी हमको चुप करा बैठी

बे’बसी हमको चुप करा बैठी ।
लफ़्ज़ कुछ भी नहीं हैं कहने को ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 109 Views
You may also like:
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
*दिन बस चार होते हैं【मुक्तक】*
Ravi Prakash
दर्द दिल की दवा
कृष्णकांत गुर्जर
अपनी मर्ज़ी की
Dr fauzia Naseem shad
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
దీపావళి జ్యోతులు
विजय कुमार 'विजय'
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
हद हुईं कबतक भला तुम आप ही छलते रहोगे।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सेमल
लक्ष्मी सिंह
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
हिंदी दोहा विषय- विजय*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ न कुछ छूटना तो लाज़मी है।
Rakesh Bahanwal
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
तुम्हारी यादें
Dr. Sunita Singh
मेरे साथी!
Anamika Singh
जादुई कलम
Arvina
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
पिता पराए हो गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
वतन ही मेरी ज़िंदगी है
gurudeenverma198
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मेरे बहादुर पिता
shabina. Naaz
कृष्ण
Neelam Sharma
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
" कुरीतियों का दहन ही विजयादशमी की सार्थकता "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
समय करेगा निर्णय
Shekhar Chandra Mitra
Loading...