Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author
Jul 6, 2022 · 1 min read

बेपनाह रूहे मोहब्बत।

मेरे अश्कों की तपिश में तू जल जायेगा।
देखना इस बेवफाई का तू अज्र पायेगा।।

मैने की है बेपनाह रूहे मोहब्बत तुझसे।
मेरी चाहतों का तू कर्ज़ न चुका पाएगा।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

2 Comments · 46 Views
You may also like:
धीरता संग रखो धैर्य
Dr.Alpa Amin
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️स्त्रोत✍️
'अशांत' शेखर
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोशिश
Anamika Singh
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
स्कूल बन गया हूं।
Taj Mohammad
थक चुकी ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
कमी मेरी तेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
जुनू- जुनू ,जुनू चढा तेरे प्यार का
Swami Ganganiya
पिता की पीड़ा पर गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
पिता
Vijaykumar Gundal
✍️मिसाले✍️
'अशांत' शेखर
Loading...