Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 26, 2017 · 1 min read

बेटी

बेटी है तो हसीन आने वाला कल है
मां बाप के हंसमुख बिताये वो पल है
बेटी काम नहीं आती यह लोगों का छल है
असलियत में बेटी ही समाज का बल है।

बेटी देश और घर की बुनियाद है
इश्वर की वो फरियाद है
इस देश की सुलभ आवाज है

400 Views
You may also like:
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता का दर्द
Nitu Sah
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
पिता
Deepali Kalra
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरे पापा
Anamika Singh
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
कर्म का मर्म
Pooja Singh
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
Loading...