Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 27, 2017 · 1 min read

बेटी है श्रिष्टि का आधार

बेटी है श्रिष्टि का आधार।
बेटी स्वयम् है अथाह प्यार।

बेटी का अनादर पाप।
अनदेखी घोर अभिशाप।
अभागे हैं वे यकीनन,
जो मारते हैं चुपचाप।
भ्रूण हत्या पशुवत व्यवहार।
बेटी है श्रिष्टि का आधार।

बेटी बेटे सेस ज्यादा।
पक्का है उसका वादा।
हरगिज नहीं बदला कभी,
बेटी का लौह इरादा।
बेटी में है ममता अपार।
बेटी है श्रिष्टि का आधार।

बेटी से संसार बना।
है उससे अभिमान घना।
वह पकड़े रहती कसके,
उससे जगताधार तना।
‘सहज’ गिनाए न ओ उपकार।
बेटी है श्रिष्टि का आधार।
@डा०रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता /साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित

1 Comment · 165 Views
You may also like:
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
बेबसी
Varsha Chaurasiya
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
पिता
Vandana Namdev
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...